कोरोना वायरस से हुई भारत में पहली मौत,कर्नाटक में मरीज ने दम तोडा

कोरोना वायरस से हुई भारत में पहली मौत,कर्नाटक में मरीज ने दम तोडा

कोरोना वायरस ने ली 76 वर्ष के वृद्ध की जान,आप भी रहे सतर्क 

आज पूरा विश्व कोरोना वायरस को लेकर परेशान है , भारत में भी कोरोना का प्रकोप बढ़ता जा रहा है ,जिसके चलते आज कर्नाटक में एक व्यक्ति की मौत हो गयी ,कोरोना वायरस Covid 19 के चलते भारत में हुई ये पहली मौत है ,मिली जानकारी के अनुसार ये व्यक्ति अभी हाल ही में सऊदी अरब से  भारत आया था

मिली जानकारी के अनुसार कोरोना वायरस कोविड 19 के कारण हुई मौत कर्नाटक के कलबुर्गी में हुई है. कर्नाटक राज्य के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग ने कहा है कि “इस मामले में सभी दिशानिर्देशों का पूरी तरह पालन किया जा रहा है. उन्हें दूसरों से अलग रखा गया है और बीते दिनों में जो लोग उनके संपर्क में आए हैं उन सभी को तलाशने की कोशिश की जा रही है. ये व्यक्ति तेलंगाना के एक निजी अस्पताल में भी गए थे इस कारण तेलंगाना सरकार को भी सूचित किया गया है.

जाने कब और कैसे हुई मौत

केंद्र सरकार द्वारा जारी एक बयान के अनुसार सऊदी अरब से लौटने के बाद सांस लेने में परेशानी, खांसी और निमोनिया की शिकायत हुई जिसके बाद 6 मार्च को एक डॉक्टर ने उनके घर पर ही उनका इलाज किया.

लेकिन स्वास्थ्य लगातार बिगड़ने के बाद 9 मार्च को कलबुर्गी में एक निजी अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया.लेकिन स्वास्थ्य लगातार बिगड़ने के बाद 9 मार्च को कलबुर्गी में एक निजी अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया. अस्पताल में प्रारंभिक जांच में पाया गया कि उन्हें कोरोना वायरस संक्रमण का संदिग्ध पाया गया.

इसके बाद 9 तारीख को विस्तृत जांच के लिए उनके थूक के नमूने को बंगलुरु की एक लैब में भेजा गया था. लेकिन जांच के नतीजे आने से पहले ही कलबुर्गी अस्पताल की सलाह के ख़िलाफ़ जाकर उनके परिवार वालों ने उन्हें हैदराबाद के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया.

कलबुर्गी जिला डिप्टी कमिश्नर ने उन व्यक्ति के परिवार वालों से बात कर उन्हें इलाज के लिए कलबुर्गी के गुलबर्ग इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेस एंड हॉस्पिटल (जीआईएमएस) में भर्ती कराने के लिए मनाने की कोशिश की जहां कोरोना वायरस संक्रमण वाले मरीज़ों को रखने के लिए आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है.

परिवार वालों के इनकार के बाद उनका इलाज हैदराबाद में जारी रहा.बाद में 10 मार्च को जब उन्हें जीआईएमएस लाया जा रहा था रास्ते में उनकी मौत हो गई.

इसे भी पढ़े

 जाने कोरोना वायरस से कैसे बचा जाए 

  • आप सभी को पता है कोरोना वायरस का अभी भी कोई स्थायी इलाज नही है ,बचाव ही इसका इसका उपाय है ,भारत में अभी तक 74 लोग कोरोना वायरस के संधिग्ध पाए गए
  • कुछ सावधानियां रखने कोरोना वायरस के खतरे को कम किया जा सकता है ,जाने कैसे बचा जाए कोरोना वायरस से
  • भीड़ भाड़ इलाकों में जाने से बचे ,जाना जरुरी हो तो बिना मास्क लगाए न जाए
  • यात्राएं करने से बचे
  • खास्ते व छिकते समय रूमाल का इस्तेमाल करे
  • जिस व्यक्ति को बुखार,खांसी,सर्दी जैसी समस्या है ,उससे संपर्क से बचे,
  • कुछ भी खाने से पहले साबुन से हाथ जरुर धोये
  • बुखार ,खांसी जैसी समस्या होने पर DOCTER से जरुर मिले
  • जयादा जानकारी के लिए इस पर क्लिक करे –कोरोना वायरस के लक्षण व बचने के उपाय 

 

COMMENTS